"तू कितनी अच्छी है ओ माँ" फिल्मी धुन माँ की वंदना | Mukesh Kumar Meena Bhajan | माँ की ममता

 


घर बैठे हारमोनियम बजाना सीखें और साथ ही फ्री में सीखें संगीत अब मेरे साथ, संगीत सीखने का सरल उपाय

https://youtube.com/c/SURSANGAMHARMONIUM

~~~~~~~~~~🙅🙅🙅~~~~~~~~~~~~

www.bhajandiary.comMovie/Album: राजा और रंक (1968)

Music By: लक्ष्मीकांत-प्यारेलाल

Lyrics By: आनंद बक्षी

Performed By: लता मंगेशकर


तू कितनी अच्छी है,तू कितनी भोली है

प्यारी-प्यारी है,ओ माँ, ओ माँ,ओ माँ प्यारी माँ

ये जो दुनिया है

ये बन है काँटों का

तू फुलवारी है

ओ माँ, ओ माँ,तू कितनी अच्छी है...


#Mukesh_Kumar_Meena_Bhajan


दूखन लागी है माँ तेरी अँखियाँ

मेरे लिए जागी है तू सारी-सारी रतियाँ

मेरी निंदिया पे, अपनी निंदिया भी, तूने वारी है

ओ माँ, ओ माँ

तू कितनी अच्छी है...


अपना नहीं तुझे सुख-दुख कोई

मैं मुस्काया, तू मुस्काई, मैं रोया, तू रोई

मेरे हँसने पे, मेरे रोने पे

तू बलिहारी है

ओ माँ, ओ माँ

तू कितनी अच्छी है...


#SUR_SANGAM

माँ बच्चों की जां होती है

वो होते हैं क़िस्मत वाले जिनके माँ होती है

कितनी सुन्दर है, कितनी शीतल है

न्यारी-न्यारी है

ओ माँ, ओ माँ

तू कितनी अच्छी है...


Lyrics Source:

www.hindilyricspratik.blogspot.com

~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~

,🔊📯🎤🎵🎵🎶🎶


❤If you want to dedicate or sponsor any bhajan song please contact: 9660159589

                                   &

❤If you are interested to release or publish your own bhajan song on our channel please contact: 9660159589

~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~

Information:

************

All the videos, songs, images, and graphics used in the video belong to their respective owners and I or this channel does not claim any right over them.


Copyright Disclaimer under section 107 of the Copyright Act of 1976, allowance is made for “fair use” for purposes such as criticism, comment, news reporting, teaching, scholarship, education and research. Fair use is a use permitted by copyright statute that might otherwise be infringing.”


If you have copyright issued for your own content in the video then you can simply write:mkmeena38@gmail.com(Mukesh)


Any reproduction or illegal distribution of the content in any form will result in immediate action against the person concerned.


0 Comments