मेरे राघव जी उतरेंगे पार हो , गंगा मैंया धीरे बहो I Bhajan Lyrics in Hindi

 





मेरे राघव जी उतरेंगे पार हो , गंगा मैंया धीरे बहो ।
धीरे बहो धीरे बहो हौले बहो ,गंगा मैंया धीरे बहो ।
मेंरे प्रभू जी उतरेंगे पार हो , गंगा मैंया धीरे बहो ।


आज सफल हुये नयन हमारे, प्रभू जी विराजे हैं नाव हमारे-२
ये तो जग के पालनहार ,गंगा मैंया धीरे बहो
मेंरे प्रभू जी उतरेंगे पार हो ,गंगा मैंया धीरे बहो ।


भव सरिता के खेवनहारे , आज हमारे नाव पधारे ।—२
ये तो दशरथ राजकुमार ,गंगा मैंया धीरे बहो ।
मेंरे राघव जी उतरेंगे पार हो, गंगा मैंया धीरे बहो ।


सीता लखन ,प्रभू पार उतारो, बिगड़ी जनम आगे की सुधारो।——२
ये तो रघुबर प्राणाधार ,गंगा मैंया धीरे बहो।
मेंरे राघव जी उतरेंगे पार हो ,गंगा मैंया धीरे बहो।



****************
केवट उतरी दंडबत कीना, प्रभू उतराई मणि मुद्रिका दीना।
कहें कृपालु लेलो उतराई, केवट चरण पकड़ अकुलाई ।
अब कछु नाथ न चाहिये मोरे, दीन दयालु अनुग्रह तोरे।
फिरती बार मैं जो कछु पावा ,समझ प्रसाद मैं सिर धरि पावा।
मेंरे राघव जी उतरेंगे पार हो, गंगा मैंया धीरे बहो—-२

0 Comments