यार बदल न जाना मौसम की तरह | फिल्मी तर्ज़ भजन | माँ की ममता | भाभी मांगे देवर


माँ की ममता माँ से मांगे
मुझे पुत्र मिले श्रवण की तरह
भाभी मांगे देवर लक्ष्मण की तरह

गुरु बिन ज्ञान कहां से लाऊं,गुरु से बढ़कर कोई नहीं
भव सागर से तार दे सबको,शक्ति जगत में कोई नहीं
गुरुजी मांगे मुझे शिष्य मिले
मुझे शिष्य मिले एकलव्य की तरह

जब जब भीड़ पड़ी बहना पर दौड़े दौड़े आते हैं
परम् कृपा कर अपनों पर ये सबकी लाज बचाते हैं
बहना मांगे मुझे भाई मिलेx2 
मुझे भाई मिले कृष्णा की तरह

आते जाते घर मे ये मेहमान भी अच्छे लगते हैं
रूप प्रभु का होता है मेहमान ये वेद भी कहते हैं
हम मांगे यही मेहमान मिले
मेहमान मिले सुदामा की तरह

0 Comments